लंम्बे घमासान के बाद किसान हुए शान्त, सरकार ने दी लिखित आश्वासन की राहत
लंम्बे घमासान के बाद किसान हुए शान्त, सरकार ने दी लिखित आश्वासन की राहत
12, Mar 2018,05:03 PM
ani,

महाराष्ट्र के सिंचाई मंत्री गिरीश महाजन ने कहा कि किसानों के साथ बैठक हुई है. सभी बातों पर चर्चा हुई. किसान खुश हैं. स्वयं उनके नेता आंदोलन को खत्म करने का ऐलान करेंगे. 12-13 विषयों पर चर्चा हुई है. समाधान किया गया. कोई ऐसा मुद्दा या विषय नहीं रहा, जिसके कारण आंदोलन चले. तीन घंटे तक चली सरकार और किसानों के बीच बैठक. बैठक के बाद फडणवीस सरकार और किसानों में सहमति बनी, किसानों ने आंदोलन खत्म करने का आश्वासन दिया.किसानों और सरकार के बीच चल रही बैठक खत्म, सरकार ने फॉरेस्ट लैंड पर 6 महीने के भीतर  निर्णय लेने का भरोसा दिया है. मंत्रियों का एक समूह इस मामले को देखेगा.

महाराष्ट्र से किसानों की आत्महत्या की खबरें सामने आती रहती है... और ज्यादातर किसान कर्ज के बोझ से लदे होने के चलते आत्महत्या का रास्ता चुन लेते हैं... किसानों के कर्ज की मांफी और स्वामीनाथान आयोग की सिफारिशों को लागू करने की मांगों को लेकर किसान खेतों से सड़कों पर उतर आया है... इस मार्च में सबसे ज्यादा आदिवासी किसान शामिल हैं .. जो अपने जमीनों पर अपने हक की मांग कर रहे है.... आदिवासी किसानों की मानो तो .... वन अधिकारी जब चाहें...तब उनके खेतों में खुदाई शुरू कर देते है... जिससे उनकी फसल बर्बाद हो जाती है...  किसानों  के इस मार्च का सरकार की सहयोगी शिवसेना ने समर्थन किया है… वहीं एमएनएस और कांग्रेस ने भी किसानों की मांग को लेकर सरकार पर दबाव बनाने की बात कही है...

ये भी पढ़ें :

सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों के नेताओं के लिए रात्रिभोज आयोजित किया

खबरें