कानपुर:गरीबों के मशीहा बने डॉ.अजीत
कानपुर:गरीबों के मशीहा बने डॉ.अजीत
26, Mar 2018,05:03 PM
ANI, Uttar pradesh

"काम करो ऐसा की पहचान बन  जाए,,हर कदम ऐसा चलो की निशां बन जाए....यहां जिंदगी तो सभी काट ही लेते है,, जिंदगी जियो ऐसी की मिसाल बन जाए" जी हां ये लाइने कानपुर के डाक्टर अजित मोहन चौधरी पर सटीक बठती है...  इन दिनों जब डाक्टरी का पेशा सेवा भाव कम और पैसा कमाने का जरिया बना है...ऐसे में डाक्टर अजित मोहन चौधरी गरीबों का मसीहा बने हैं।डॉ चौधरी ने शहीद सैनिको के सम्मान में गरीब और असहाय लोगो का इलाज मुफ्त में करने की ठान ली है...इन्होंने कानपुर के चेतना चौराहे पर बने फुटपाथ को अपना ठिकाना बना लिया और रोजाना दो घंटे गरीबों और असहाय लोगो का मुफ्त में इलाज करने लगे.. उनके इस काम की तारीफ पीएम मोदी ने अपने कार्यक्रम मन की बात में भी की है...डॉ चौधरी के पास जो भी मरीज आता है वो उसकी बारीकी से जांच करने के बाद अपने पास से दवा मुफ्त में देते हैं।डॉ अजीत कहते हैं कि मुझे इससे बड़ा सुकून मिलता है।डॉक्टर चौधरी की क्लिनिक रोज सुबह  नौ बजे कानपूर कचहरी के चेतना चैराहे पर  भगवान् हनुमान के मंदिर के बाहर लगती है।डॉ चौधरी फुटपाथ पर शहीद हुए सैनिको के परिवार के लिए एक दान पात्र भी रखते है.।जिसमें कोई भी मरीज अपने सामर्थ्य के हिसाब से पैसा डाल सकता है... डॉ चौधरी के परिवार में करीब सभी सदस्य डॉक्टर है और वो एक संपन्न परिवार से हैं और उनका खुद का अपना 100 बेड का अस्पताल भी है, बावजूद इसके वो फुटपाथ पर अपना क्लीनिक चलाते हैं।बहरहाल अगर देश में हर डॉक्टर अपने हिस्से की थोड़ी सी सेवा कर दे और डॉक्टर अजीत की तरह कर दे मरीजों बस मरीज समझ ले तो देश में कोई मरीज यूं ही नहीं घसीटें जाएंगे.

ये भी पढ़ें :

अधिकारी नर्सिंग होम के संचालक पर लगा बच्चा गायब करने का आरोप

खबरें