दहेज उत्पीड़न मामले में SC ने संशोधन करते हुए कहां कि पुलिस को जरुरी लगे तो करे गिरफ्तारी
दहेज उत्पीड़न मामले में SC ने संशोधन करते हुए कहां कि पुलिस को जरुरी लगे तो करे गिरफ्तारी
14, Sep 2018,11:09 AM
Edited By Aarti Singh,

दहेज उत्पीड़न मामले मे सुप्रीम कोर्ट का फैसला सामने आया, अगर जरुरी लगे तो पुलिस कर सकती है गिरफ्तारी। मुख्य न्यायाधीस दीपक मिश्रा व जस्टिस ए.एम. खानविलकर और जस्टिस डी.वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली तीन जंजो की पीठ ने पुराने फैसले में संशोधन करते हुए कहा कि मामले की जांच के लिए अलग से कंमेटी की जरुरत नहीं है पुलिस को जरुरी लगे तो मामले को समझते हुए गिरफ्तारी कर सकती है ।

आरोपी के लिए बना ये नया विकल्प
आरोपी पर ध्यान देते हुए कोर्ट ने उसको अपना मत व अग्रिम ज़मानत का विकल्प दिया। कोर्ट ने आरोपियों की गिरफ्तारी पर लगी रोक हटाते हुए कहा कि विक्टिम प्रोटेक्शन के लिए ऐसा करना जरूरी है. दरअसल, इसी साल अप्रैल माह में सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था जबकि पिछले साल 27 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट के दो जजों की बेंच ने अपने पुराने फैसले में कहा था कि आईपीसी की धारा-498 ए यानी दहेज प्रताड़ना मामले में गिरफ्तारी सीधे नहीं होगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दहेज प्रताड़ना मामले को देखने के लिए हर जिले में एक परिवार कल्याण समिति बनाई जाए जो शिकायत के पहलुओं पर जांच करें और समिति की रिपोर्ट आने के बाद ही ज़रूरी हो तो गिरफ्तारी होनी चाहिए, उससे पहले नहीं।

ये भी पढ़ें :

PM मोदी बोहरा मुस्लिम समुदाय के कार्यक्रम का हिस्सा बनने पहुंचे इंदौर

खबरें