किसानो की शिकायत के बाद जाल में फसे आज़म खान
किसानो की शिकायत के बाद जाल में फसे आज़म खान
20, Jul 2019,01:07 PM
tv 100,

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर से सांसद आजम खान की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. किसानों की जमीन कब्जाने के मामले में आजम खान पर तीन और एफआईआर दर्ज हो गई हैं. यह एफआईआर जौहर यूनिवर्सिटी मामले से जुड़ी हैं, जिनमें सपा सांसद आजम खान पर किसानों की जमीन को कब्जाने का आरोप है. आजम खान पर वहां के स्थानीय किसानों ने एफआईआर दर्ज करवाई हैं.

उत्तर प्रदेश पुलिस में एसपी अजय पाल शर्मा ने आजम खान के खिलाफ दर्ज मामलों के बारे में आजतक को विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने बताया कि एफआईआर में आजम खान के साथ रामपुर के पूर्व सीओ (रिटायर्ड) आले हसन और रामपुर में तैनात तत्कालीन इंस्पेक्टर कुशलवीर का भी नाम है. उन्होंने बताया कि किसानों के आरोपों को राजस्व विभाग ने जांच में सही पाया जिसके बाद आजम के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुईं.  

किसानों ने आजम खान पर आरोप लगाया कि उन्होंने जमीन न देने पर चरस और अफीम के झूठे मुकदमों में फंसाया गया. किसानों को अवैध तरीके से पुलिस हिरासत में रखा गया और उनके परिवार वालों को परेशान किया गया. आजम खान की शह पर तत्कालीन इंस्पेक्टर ने कई किसानों को फर्जी मुकदमों में जेल भी भेजा गया ताकि वो अपनी जमीन दे दें. उन सभी मुकदमों की फिर से जांच की जा रही है जिस इंस्पेक्टर ने आजम की शह पर किसानों पर मुकदमे दर्ज किए उससे पुलिस ने पूछताछ की.

इससे पहले किसानों की जमीन कब्जाने को लेकर आजम खान पर रामपुर के अलग-अलग थानों में 23 एफआईआर दर्ज हो चुकी हैं. जिनके मुताबिक आजम खान ने किसानों को चरस और अफीम के केस में फंसा देने का डर दिखा कर उनकी जमीन को कब्जाया. 

आजम खान को गुरुवार को रामपुर में भू माफिया घोषित किया गया है. जौहर विश्वविद्यालय के लिए किसानों की जमीनें कब्जाने के आरोप में फंसे आजम खां को प्रशासन ने भूमाफिया घोषित कर दिया है. उपजिलाधिकारी सदर प्रेम प्रकाश तिवारी ने बताया कि आजम खां का नाम भू माफिया पोर्टल पर दर्ज करा दिया गया है. आगे की कार्रवाई नियमानुसार की जाएगी.

ये भी पढ़ें :

यूपी में राम नाईक की जगह आनंदीबेन पटेल,6 राज्यों के गवर्नर बदले गए

खबरें