मकर संक्रांति पर समाप्त होगा खरमास
शुरू होंगे शुभ मांगलिक कार्य, करें इन चीजों का दान, अच्छा बीतेगा आप का साल 2018
06, Jan 2018,01:01 PM
, TV100

मकर संक्रांति भारत के प्रमुख हिन्दू त्योहारों में से एक है। जिसे हर साल जनवरी माह में मनाया जाता है। इस पर्व को पुरे भारत में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है।  उत्तर भारत में स्नान और दान के इस पर्व को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के मकर राशि में पहुंचने पर पूरे प्रदेश में मकर संक्रांति मनायी जाएगी। इस दिन गंगा स्नान और दान-पुण्य का कई गुना फल मिलता है। इस दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाते है. हरियाणा और पंजाब में इसे लोहड़ी पर्व के रूप में मनाया जाता है। तमिलनाडु में यह Pongal पर्व है जबकि कर्नाटक, केरल व् आंध्र प्रदेश में इसे संक्रांति कहते है। इलाहबाद और उत्तर प्रदेश में इस दिन गंगा स्नान का खास महत्व होता है। बिहार में संक्रांति को खिचड़ी के नाम से जाना जाता है। पश्चिम बंगाल में इस दिन स्नान के बाद तिल दान करने की प्रथा है। महाराष्ट्र में विवाहित महिलाएं अपन पहली संक्रांति पर कपास, तेल व् नमक सुहागिन महिलाओं को दान करती है। असम में इसे माघ बिहू या भोगली बिहू के नाम से मनाते है।

ये भी पढ़ें :

मीन

खबरें